Dosti Shayari

Dosti Shayari dosti sayari
 

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती,

फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती,

मिलना हमारी तक़दीर में था वरना,

इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।


Zindagi Har Pal Kuchh Khaas Nahi Hoti,

Phoolo Ki Khushboo Hamesha Paas Nahi Hoti,

Milna Humari Takdeer Mein Tha Varna,

Itni Pyari Dosti ittefaaq Nahi Hoti.


तुम दोस्त बनके ऐसे आए ज़िन्दगी में,

कि हम ये जमाना ही भूल गये,

तुम्हें याद आए न आए हमारी कभी,

पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।


Tum Dost Ban Ke Aise Aaye Zindagi Mein,

Ki Hum Yeh Zamana Hi Bhool Gaye,

Tumhein Yaad Aaye Na Aaye Humari Kabhi,

Par Hum To Tumhein Bhulaana Hi Bhool Gaye.


ज़िन्दगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,

दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,

ज़िन्दगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,

अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।


Zindagi Ke Toofanon Ka Saahil Hai Dosti,

Dil Ke Armaanon Ki Manzil Hai Dosti,

Zindagi Bhi Ban Jayegi Apni To Jannat,

Agar Maut Aane Tak Saath De Dosti.


दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे,

जैसे-जैसे दोस्तों को आजमाता जा रहा हूँ।

Dushmano Se Mohabbat Hone Lagi Hai Mujhe,

Jaise Jaise Dosto Ko Aazmata Ja Raha Hoon.


दाग दुनिया ने दिए ज़ख्म ज़माने से मिले,

हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले।

Daag Duniya Ne Diye Zakhm Zamane Se Mile,

HumKo Tohfe Ye Tumhein Dost Banaane Se Mile.


दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,

उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।

Dost Hokar Bhi Maheeno Nahi Milta Mujhse,

Uss Se Kehna Ki Kabhi Zakhm Lagaane Aaye.


आप जिसके वास्ते मुझसे किनारा कर गए

आपसे बच कर वही मुझको इशारा कर गए।

Aap Jiske Waste Mujhse Kinara Kar Gaye,

Aapse Bach Kar Wahi Mujhko Ishara Kar Gaye.


तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,

​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।

Toofano Ki Dushmani Se Na Bachte To Khair Thi,

Saahil Se Doston Ke Bharam Ne Dubo Diya.


दोस्ती किससे न थी किससे मुझे प्यार न था,

जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।

Dosti Kis Se Na Thi Kis Se Mujhe Pyar Na Tha,

Jab Bure Waqt Pe Dekha To Koi Yaar Na Tha.


साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,

दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,

जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों,

कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।

Saath Rehte Yoon Hi Waqt Gujar Jayega,

Dur Hone Ke Baad Kaun Kise Yaad Aayega,

Jee Lo Ye Pal Jab Tak Sath Hai Dosto,

Kal Ka Kya Pata Waqt Kahan Le Ke Jayega.


तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,

सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,

एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा,

कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में।


Tanhai Si Thi Duniya Ki Bheed Mein,

Socha Koi Apna Nahi Takdeer Mein,

Ek Din Jab Dosti Ki Aap Se To Yoon Laga,

Kuchh Khaas Tha Mere Haath Ki Lakeer Mein.


रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,

दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,

जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,

उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।


Rishton Se Badi Chahat Aur Kya Hogi,

Dosti Se Badi Ibaadat Aur Kya Hogi,

Jise Dost Mil Sake Koyi Aap Jaisa,

Use Zindagi Se Koyi Aur Shikayat Kya Hogi.


तुम दोस्त बनके ऐसे आए ज़िन्दगी में,

कि हम ये जमाना ही भूल गये,

तुम्हें याद आए न आए हमारी कभी,

पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।


Tum Dost Ban Ke Aise Aaye Zindagi Mein,

Ki Hum Yeh Zamana Hi Bhool Gaye,

Tumhein Yaad Aaye Na Aaye Humari Kabhi,

Par Hum To Tumhein Bhulaana Hi Bhool Gaye.


आपकी हमारी दोस्ती सुरों का साज है,

आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है,

अब चाहे कुछ भी हो जाये ज़िन्दगी में,

दोस्ती वैसे ही रहेगी जैसे आज है।


Aapki Humari Dosti Suron Ka Saaj Hai,

Aap Jaise Dost Par Hamein Naaz Hai,

Ab Chaahe Kuchh Bhi Ho Jaye Zindagi Mein,

Dosti Waise Hi Rahegi Jaise Aaj Hai.


ज़िन्दगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,

दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,

ज़िन्दगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,

अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।


Zindagi Ke Toofanon Ka Saahil Hai Dosti,

Dil Ke Armaanon Ki Manzil Hai Dosti,

Zindagi Bhi Ban Jayegi Apni To Jannat,

Agar Maut Aane Tak Saath De Dosti.


वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे,

तुम्हें भूल के जियूं ये खुदा न करे,

रहे तेरी दोस्ती मेरी ज़िन्दगी बनकर,

ये बात और है कि ज़िन्दगी वफा न करे।


Wo Dil Kya Jo Milne Ki Dua Na Kare,

Tumhein Bhool Ke Jiyun Yeh Khuda Na Kare,

Rahe Teri Dosti Meri Zindgi Ban Kar,

Ye Baat Aur Hai Ki Zindagi Wafa Na Kare.


दीये तो आँधी में भी जला करते हैं,

गुलाब तो काँटो में भी खिला करते हैं,

खुशनसीब बहुत होती है वो शाम,

जिसमें दोस्त आप जैसे मिला करते हैं।


Deeye To Aandhi Mein Bhi Jala Karte Hain,

Gulaab To Kaanto Mein Bhi Khila Karte Hain,

KhushNaseeb Bahut Hoti Hai Wo Shaam,

Jisme Dost Aap Jaise Mila Karte Hain.


दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे,

जैसे-जैसे दोस्तों को आजमाता जा रहा हूँ।


Dushmano Se Mohabbat Hone Lagi Hai Mujhe,

Jaise Jaise Dosto Ko Aazmata Ja Raha Hoon.


दाग दुनिया ने दिए ज़ख्म ज़माने से मिले,

हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले।


Daag Duniya Ne Diye Zakhm Zamane Se Mile,

HumKo Tohfe Ye Tumhein Dost Banaane Se Mile.


दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,

उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।


Dost Hokar Bhi Maheeno Nahi Milta Mujhse,

Uss Se Kehna Ki Kabhi Zakhm Lagaane Aaye.


आप जिसके वास्ते मुझसे किनारा कर गए

आपसे बच कर वही मुझको इशारा कर गए।

Aap Jiske Waste Mujhse Kinara Kar Gaye,

Aapse Bach Kar Wahi Mujhko Ishara Kar Gaye.


तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,

​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।

Toofano Ki Dushmani Se Na Bachte To Khair Thi,

Saahil Se Doston Ke Bharam Ne Dubo Diya.


दोस्ती किससे न थी किससे मुझे प्यार न था,

जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।

Dosti Kis Se Na Thi Kis Se Mujhe Pyar Na Tha,

Jab Bure Waqt Pe Dekha To Koi Yaar Na Tha.


साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,

दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,

जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों,

कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।

Saath Rehte Yoon Hi Waqt Gujar Jayega,

Dur Hone Ke Baad Kaun Kise Yaad Aayega,

Jee Lo Ye Pal Jab Tak Sath Hai Dosto,

Kal Ka Kya Pata Waqt Kahan Le Ke Jayega.


तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,

सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,

एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा,

कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में।

Tanhai Si Thi Duniya Ki Bheed Mein,

Socha Koi Apna Nahi Takdeer Mein,

Ek Din Jab Dosti Ki Aap Se To Yoon Laga,

Kuchh Khaas Tha Mere Haath Ki Lakeer Mein.


गुनाह करके सजा से डरते है,

ज़हर पी के दवा से डरते है,

दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,

हम दोस्तों के खफा होने से डरते है।

Gunaah Kar Ke Saza Se Darte Hain,

Zeher Pee Ke Dawa Se Darte Hain,

Dushmano Ke Sitam Ka Khauf Nahi Humein,

Hum Dosto Ke Khafa Hone Se Darte Hain.


रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,

दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,

जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,

उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।

Rishton Se Badi Chahat Aur Kya Hogi,

Dosti Se Badi Ibaadat Aur Kya Hogi,

Jise Dost Mil Sake Koyi Aap Jaisa,

Use Zindagi Se Koyi Aur Shikayat Kya Hogi.


खामोशियों में धीमी सी आवाज़ है,

तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है,

मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ,

आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।

Khamoshiyon Mein Dheemi Si Aawaaz Hai,

Tanhaiyon Mein Bhi Ek Gehra Raaz Hai.

Milte Nahin Hai Sabko Achchhe Dost Yahan.

Aap Jo Mile Ho Humein Khud Par Naaz Hai.


दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,

पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं,

हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,

कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।

Duniyadari Mein Hum Thode Kachche Hain,

Par Dosti Ke Maamle Mein Sachche Hain,

Humari Sachchai Bas Iss Baat Par Kayam Hai,

Ki Humare Dost Humse Bhi Achchhe Hain.


कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,

सिर्फ सिमटी हुयी यादों का सिलसिला होगा,

जो लम्हे हैं उन्हें हँसकर बिता ले दोस्त,

जाने कल ज़िन्दगी का क्या फैसला होगा।


Kal Na Hum Honge Na Koi Gila Hoga,

Sirf Simti Hui Yaadon Ka Silsila Hoga,

Jo Lamhe Hain Unhein Haskar Bita Le Dost,

Jaane Kal Zindagi Ka Kya Faisla Hoga.


उम्मीद ऐसी हो जो जीने को मजबूर करे,

राह ऐसी हो जो चलने को मजबूर करे,

महक अपनी दोस्ती की कम न हो कभी,

दोस्ती ऐसी हो जो मिलने को मजबूर करे।


Ummeed Aisi Ho Jo Jeene Ko Majboor Kare,

Raah Aisi Ho Jo Chalne Ko Majboor Kare,

Mahek Apni Dosti Ki Kam Na Ho Kabhi,

Dosti Aisi Ho Jo Milne Ko Majboor Kare.


यह सफ़र दोस्ती का कभी खत्म न होगा,

दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा,

दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी,

हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा।


Safar Dosti Ka Kabhi Khatm Na Hoga,

Doston Se Ye Pyar Kabhi Kam Na Hoga,

Door Rehkar Bhi Jab Rahegi Mahek Iski,

Humein Kabhi Bichhadne Ka Gham Na Hoga.


हम दोस्त बनाकर किसी को रुलाते नहीं,

दिल में बसाकर किसी को भुलाते नहीं,

हम तो दोस्त के लिए जान भी दे सकते हैं,

और तुम सोचते हो हम दोस्ती निभाते नहीं।


Hum Dost Banakar Kisi Ko Rulaate Nahi,

Dil Mein Basakar Kisi Ko Bhulaate Nahi,

Hum To Dost Ke Liye Jaan Bhi De Sakte Hain,

Aur Tum Sochte Ho Hum Dosti Nibhaate Nahi.


हम वो फूल हैं जो रोज-रोज नहीं खिलते,

यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते,

हमसे बिछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें,

हम वो दोस्त हैं जो दोबारा नहीं मिलते।


Hum Wo Phool Hain Jo Roj-Toj Nahi Khilte,

Ye Wo Honthh Hain Jo Kabhi Nahi Silte,

HumSe Bichhdoge To Ehsaas Hoga Tumhein,

Hum Wo Dost Hain Jo Dobara Nahi Milte.


यादों के भंवर में एक पल हमारा हो,

खिलते चमन में एक गुल हमारा हो,

जब याद करें आप अपने दोस्तों को,

उन नामों में एक नाम हमारा हो।


Yaadon Ke Bhanwar Mein Ek Pal Humara Ho,

Khilte Chaman Mein Ek Gul Humara Ho,

Jab Yaad Karein Aap Apne Doston Ko,

Unn Naamon Mein Ek Naam Humara Ho.


जो दिल के हो करीब उसे रुसवा नहीं करते,

यूँ अपनी दोस्ती का तमाशा नहीं करते,

खामोश रहोगे तो घुटन और बढ़ेगी,

दोस्तों से कोई बात छुपाया नहीं करते।


Jo Dil Ke Ho Kareeb Use Ruswa Nahi Karte,

Yoon Apni Dosti Ka Tamasha Nahi Karte,

Khamosh Rahoge To Ghutan Aur Barhegi,

Doston Se Koi Baat Chhupaya Nahi Karte.


हँसी छुपाना किसी को गंवारा नहीं होता,

हर मुसाफिर ज़िन्दगी का सहारा नहीं होता,

मिलते है लोग इस तनहा ज़िन्दगी में पर,

हर कोई दोस्त तुम सा प्यारा नहीं होता।


Hansi Chhupana Kisi Ko Gawara Nahi Hota,

Har Musafir Zindagi Ka Sahara Nahi Hota,

Milte Hain Log Iss Tanha Zindagi Mein Par,

Har Koyi Dost Tum Sa Pyara Nahi Hota.


वो बात क्या करूँ जिसकी खबर ही न हो,

वो दुआ क्या करूँ जिसमें असर ही न हो,

कैसे कह दूँ दोस्त आपको लग जाये मेरी उम्र,

क्या पता अगले पल मेरी उम्र ही न हो।


Wo Baat Kya Karoon Jiski Khabar Hi Na Ho,

Wh Duaa Kya Karoon Jiska Asar Hi Na Ho,

Kaise Keh Doon Dost Aapko Lag Jaye Meri Umar,

Kya Pata Agle Pal Meri Umar Hi Na Ho.


अंधेरों के लिए कुछ आफताब माँगे हैं,

अपने लिए हमने दोस्त कुछ ख़ास माँगे हैं,

जब भी दुआ में कुछ माँगा है खुदा से,

तो आपके लिए खुशी के लम्हात माँगे हैं।


Andhero Ke Liye Kuchh Aaftab Maange Hain,

Apne Liye Humne Dost Kuchh Khaas Maange Hain,

Jab Bhi Duaa Mein Kuchh Maanga Hain Khuda Se,

To Aapke Liye Khushi Ke Lamhaat Maange Hain.


तुम साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे जरूर,

दोस्ती अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे जरूर,

कितने भी काँटे क्यों ना हों दोस्ती की राह में,

आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे जरूर।


Tum Saath Agar Doge To Muskurayenge Jaroor,

Dosti Agar Dil Se Karoge To Nibhayenge Jaroor,

Kitne Bhi Kaante Kyun Na Ho Dosti Ki Raah Mein,

Aawaaz Agar Dil Se Doge To Aayenge Jaroor.


ऐ दोस्त जब कभी तू बहुत उदास होगा,

मेरा ख्याल तेरे दिल के आस-पास होगा,

दिल की गहराईयों से जब भी करेगा याद,

तुझे हमारे करीब होने का एहसास होगा।


Ai Dost Jab Kabhi Tu Bahut Udaas Hoga,

Mera Khayal Tere Dil Ke Aas-Paas Hoga,

Dil Ki Gaheraiyon Se Jab Bhi Karega Yaad,

Tujhe Humaare Kareeb Hone Ka Ehsaas Hoga,


एहसास बहुत होगा जब छोड़ के जाएंगे,

रोयेंगे बहुत मगर आँसू नहीं आएँगे,

जब साथ कोई ना दे तो आवाज़ हमें देना,

आसमान पर होंगे तो भी लौट के आएंगे।


Ehsaas Bahut Hoga Jab Chhod Ke Jayenge,

Royenge Bahut Magar Aansoo Nahi Aayenge,

Jab Saath Koi Na De To Aawaaz Humein Dena,

Aasmaan Par Honge To Bhi Laut Ke Jayenge.


खुशियों का एक संसार लेकर आयेंगे,

पतझड़ में भी बहार लेकर आयेंगे,

जब भी पुकारोगे आप दिल से ऐ दोस्त,

हम खुदा से साँसे उधार लेके आयेंगे।


Khushiyon Ka Ek Sansaar Lekar Aayenge,

Patjhad Mein Bhi Bahaar Lekar Aayenge,

Jab Bhi Pukaroge Aap Dil Se Ai Dost,

Hum Khuda Se Saansein Udhaar Leke Aayenge.


वो याद नहीं करते हम भुला नहीं सकते,

वो हँसा नहीं सकते हम रुला नहीं सकते,

दोस्ती इतनी खूबसूरत है हमारी,

वो बता नहीं सकते हम जता नहीं सकते।


Wo Yaad Nahi Karte Hum Bhula Nahi Sakte,

Wo Hansa Nahi Sakte Hum Rula Nahi Sakte,

Dosti Itni KhoobSoorat Hai Humari,

Wo Bata Nahi Sakte Hum Jata Nahi Sakte.


अपनी दोस्ती का बस इतना सा उसूल है,

जब तू कबूल है तो तेरा सब-कुछ कुबूल है।

Apni Dosti Ka Bas Itna Sa Usool Hai,

Jab Tu Qabool Hai To Tera SabKuchh Qabool Hai.


मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं,

वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर।

Mere Dosto Ki Pahchan Itni Mushkil Nahi,

Wo Hansna Bhool Jate Hain Mujhe Rota DekhKar.


गुनगुनाना तो तकदीर में लिखा कर लाए थे,

खिलखिलाना दोस्तों से तोहफ़े में मिल गया।

GunGunana To Takdeer Mein Likha Kar Laye The,

KhilKhilana Doston Se Tohfe Mein Mil Gaya,


हम वक्त गुजारने के लिए दोस्त नहीं रखते,

दोस्तों के साथ रहने के लिए वक्त रखते हैं।

Hum Waqt Gujarne Ke Liye Dost Nahi Rakhte,

Doston Ke Saath Rahne Ke Liye Waqt Rakhte Hain.


आदतें अलग हैं मेरी दुनिया वालों से,

दोस्त कम ही सही पर लाजवाब रखता हूँ।

Aadatein Alag Hain Meri Duniya Walo Se,

Dost Kam Hi Sahi Par LaJawab Rakhta Hoon.



छोटी-छोटी शरारतों का अंजाम है दोस्ती,

कहे-अनकहे रिश्तों का पैगाम है दोस्ती,

दिन-रात की मस्ती का नाम है दोस्ती,

लेकिन आपके बिना बिल्कुल बेजान है ये दोस्ती।


Chhoti-Chhoti Shararaton Ka Anzaam Hai Dosti,

Kahe-Ankahe Rishton Ka Paigam Hai Dosti,

Din-Raat Ki Masti Ka Naam Hai Dosti,

Lekin Aapke Bina Bilkul Bejaan Hai Ye Dosti.


खुदा ने अगर ये रिश्ता बनाया ना होता,

एक प्यारे दोस्त को मुझसे मिलाया न होता,

ज़िंदगी हो जाती हमारी बिल्कुल वीरान,

अगर आप जैसे दोस्त को पाया न होता।


Khuda Ne Agar Ye Rishta Banaya Na Hota,

Ek Pyaare Dost Ko Mujhse Milaya Na Hota,

Zindagi Ho Jati Humari Bilkul Veeraan,

Agar Aap Jaise Dost Ko Paaya Na Hota.


खुशी की परछाइयों का नाम है दोस्ती,

गमों की गहराईओं का जाम है दोस्ती,

एक प्यारा सा दोस्त है हमारा यहाँ,

उसकी प्यारी सी हँसी का नाम है दोस्ती।


Khushi Ki Parchhaiyon Ka Naam Hai Dosti,

Ghamo Ki Gehraiyon Ka Jaam Hai Dosti,

Ek Pyara Sa Dost Hai Humara Yahan,

Uski Pyari Si Hansi Ka Naam Hai Dosti.


जब भी साथ बिताया वक़्त याद आता है,

मेरी पलकों पर बहते आँसू छोड़ जाता है,

कोई और मिल जाये तो हमें न भूल जाना,

दोस्ती का रिश्ता जिंदगी भर काम आता है।


Jab Bhi Saath Bitaya Waqt Yaad Aata Hai,

Meri Palko Par Bahte Aansoo Chhod Jata Hai,

Koi Aur Mil Jaye Toh Humein Na Bhul Jana

Dosti Ka Rishta Zindagi Bhar Kaam Aata Hai.


Post a comment

0 Comments